बेटी के बॉयफ्रेंड से चूत की आग बुझाई

 483 

रात के अंधेरे में बेटी बन के बेटी के बॉयफ्रेंड से चूत की आग बुझा ली

तो मैं धीरे से बोली जानू अब अपने कपड़े पहन लो और चुप चाप धीरे से निकल जाओ नही तो मॉम को पता चल गया तो हम दोनो का खैर नहीं। तो वह बोला यार मुझे अभी और चोदना है मेरा मन अभी नही भरा है तो मैं बोली अब किसी और दिन मैं थक गई हूं। फिर वो मन मसोस कर अपने कपड़े ढूढने लगा लेकिन उसका हाफ पैंट नही मिल रहा था तो वह बोला यार लाइट तो जलाओ मेरा पैंट नही मिल रहा है तो मैं बोली लाइट ऑन करेंगे तो मॉम जाग जाएगी ऐसे ही ढूंढो तो वह कोशिश किया लेकिन नही मिला पूरे बिस्तर पर कहीं नहीं था उसका पैंट। तो वह उठा और लाइट जला दिया। और मुझे नंगे देखकर भौचक्का रह गया और बोला मौसी तुम?

मेरे सभी प्यारे दोस्तों और https://nightqueenstories.com के सभी हॉट एंड सेक्सी पाठकों को मेरा सादर नमस्कार। कैसे हो आपसब उम्मीद करता हैं सभी अच्छे होंगे और मजे के साथ इस वेबसाइट की अति कामुक और चुदाई कहानियों का आनंद ले रहे होंगे।

दोस्तों मेरा नाम राधिका सक्सेना है। मैं एक हाउसवाइफ हूं। और मेरी उम्र 42 साल है। मेरी एक बेटी है जो 19 साल की है, उसका नाम दीक्षा है। हम दोनो मां बेटी की कद काठी एक जैसी है आवाज भी बिलकुल एक जैसी है, जो भी फोन पर बात करते हैं वो पहचान नहीं पाते हैं की मैं बोल रही हूं या मेरी बेटी। हम दोनो बिल्कुल कार्बन कॉपी लगते हैं, और बाहर में जाते हैं तो सभी हम दोनो को बहन समझते हैं। कभी कभी तो हमें हंसी आ जाती है।

कैसे मैं चूत की आग की जलन में अपने बेटी के ब्वॉयफ्रेंड जो मेरी छोटी बहन का लड़का था उससे धोखे से अपनी चूत चुदवा ली

ये कहानी बिल्कुल अनोखी है और इसमें मैं अपने बेटी के ब्वॉयफ्रेंड से चुदवा लेती हूं। आगे आप डिटेल्स में जानेंगे की कैसे मैं अपने बेटी के ब्वॉयफ्रेंड से चुदवाई।

तो हुआ ये कि एक दिन रात को 1 बजे मैं उठ के बाथरूम जा रही थी तो बेटी के रूम से कुछ आवाज सुनाई दिया। तो मैं दरवाजे के पास गई और कान लगा के सुनने लगी वो किसी से फोन पर बात कर रही थी और उसकी आवाज ऐसे लग रहा था जैसे वो चुदवा रही हो। मुझे समझते देर नहीं लगा की वो फोन सेक्स कर रही है। फिर मैं सोचने लगी आखिर किससे बात करती है और वो भी सेक्स की बातें। मैं तो दीक्षा को बहुत शरीफ समझती थी लेकिन ये तो चुदाई में पड़ी हुई है।

लेकिन मुझे उससे पूछने की हिम्मत नहीं हो रहा था की वो किससे बात करती है,और 3 दिन ऐसे ही बीत गया। वो रोज बात करती थी। और चौथे दिन रात को मैं 2 बजे टॉयलेट जाने लगी तो दीक्षा के कमरे से सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… .सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह की आवाजें आ रही थी लेकिन हैरानी मुझे इस बात की नहीं हुई बल्कि इस बात से मैं हैरान थी की उसके कमरे से किसी मर्द का भी आवाज आज आ रहा था। फिर मैं सोचने लगी की आखिर मेरी बेटी किससे चुदवा रही है। सोचा अभी दरवाजा खोलवाऊं लेकिन मैं ऐसा नहीं की और अपने कमरे में आकर इंतजार करने लगी की उसके कमरे से कौन निकलता है। लेकिन मुझे कब नींद आ गया पता ही नही चला और सुबह 6 बजे हमारी नींद खुली। तो सोचा आज पकड़ूंगी। और फिर मैं अपने काम में लग गई।

दिन के दस बज रहे थे और दीक्षा नहाने गई थी। और तभी उसका फोन बजा तो मैं जा के देखी तो एक नंबर से कॉल आ रहा था जो my sona के नाम से सेव था मुझे समझते देर नहीं लगा की हो न हो ये वही है जो मेरी बेटी को चोद रहा है इधर मेरी भी चूत में चुदाई के कीड़े कुलबुलाने लगे थे जबसे मैं रात में उनकी चुदाई की कामुक गर्म सिसकारियां सुनी थी। और फिर मैं इस कॉल को रिसीव कर ली क्योंकि मैं जानती थी की दीक्षा को बाथरूम से बाहर आने में अभी आधा घंटा तो लगेगा ही। मैं फोन पिक करने के बाद कान में लगाई लेकिन कुछ बोली नहीं, लेकिन उधर से एक लड़का बोला हाय जान कैसी हो मेरी याद नही आ रही है क्या मैं तो तुम्हे बहुत मिस कर रहा हूं। और दोस्तों ये आवाज सुन के मैं हैरान रह गई ये कोई और नहीं बल्कि मेरी छोटी बहन का लड़का ऋषभ था। जो इसी शहर में हमारे घर से 3 km दूर रहता है। मैं सोचने लगी की क्या सच में मेरी बेटी अपने भाई से ही चुदवा रही है। लेकिन मेरे चुप रहने के कारण वह बोला जान बोल ना, चुप क्यों हो? तो मैं धीरे से बोली हां बोलो। तो वह मेरी आवाज नहीं पहचाना और बोला यार तू चुप क्यों थी, अच्छा ये बता रात को कैसा लगा, तुम्हे मजा आया, मुझे तो बहुत मजा आया यार तू तो कमाल है। तो मैं समझ गई की ये रात चुदाई कर रहे थे वही बोल रहा है। लेकिन मैं सोचने लगी ये रात में आता कब है। फिर वह बोला जान सुनो ना आज मैं कंडोम और सेक्स पावर बढ़ाने वाला दवा लेकर आऊंगा और आज हम जम के रात भर चुदाई करेंगे। तो मैं धीरे से बोली लेकिन रात भर कैसे मॉम रहती है तो। तो वह बोला की यार मॉम के सुबह उठने से पहले कल की तरह ही मैं निकल जाऊंगा उनको कुछ नहीं पता चलेगा।

ऋषभ के बातें सुनकर मेरी चूत भी चूदास हो गई और मैं सोचने लगी की ये सब कैसे हो रहा है। फिर मैं बोली की मॉम आ रही है मैं बाद में बात करती हूं। और बोली सुनो अभी कॉल मत करना, करना होगा तो मैं ही कर लूंगी क्योंकि मॉम को शक हो गया है। इसलिए गलती से भी कॉल मत करना और रात को तुम सीधे मेरे रूम में आ जाना मैं तुम्हारा इंतजार करूंगी। तो वो बोला ठीक है और फिर मैं कॉल कट कर दी। मैं जानती थी की दीक्षा की कोई दोस्त वैसा नही है जिससे वो कॉल पर बात करे इसलिए मैं जल्दी से अपना सिम उसके फोन में लगा दी और उसका वाला अपने में। और सेटिंग में जाकर कुछ गडबड कर दी ताकि वो ऋषभ को कॉल ना कर सके।

मैं चूत फैलाए ऋषभ का इंतजार कर रही थी और जैसे ही वह रूम में आया मैं फुसफुसाते हुए बोली जानू अब अपना लंड जल्दी से मेरी चूत में डालकर मुझे चोद दो

और फिर सब नॉर्मल हो गया और हम दोनो मॉम बेटी दोपहर को खाने बैठे तो मैं बोली पता नही आज कहीं फोन क्यों नहीं लग रहा है क्या हो गया मेरे फोन में। तो दीक्षा बोली की मेरे फोन में भी कॉल नहीं जा रहा ना ही उधर से एक बार भी कॉल आया तो मैं बोली इसका मतलब नेटवर्क का कोई प्राब्लम है मेरा फोन सही है, तो वो बोली की हां शायद ऐसा ही है क्योंकि मेरे भी फोन में ऐसा हो रहा तो नेट का ही प्रॉब्लम होगा। मैं बहुत खुश हुई की मैं उसे बेवकूफ बना दी। और फिर मैं ठान ली की आज मैं भी अपने बहन के बेटे से चुदवाऊंगी। और मैं बाथरूम में गई और अपना झांट साफ की। और फिर रात हो गया। हम खाना खाए और मैं दीक्षा को बोली की बेटा यही सो जा मेरे साथ मेरी तबियत ठीक नहीं लग रही है। तो वह मान गई क्योंकि आज उसका ऋषभ से बात हुआ नही तो वो सोची की अब वो आयेगा नही तो मेरे पास सोने के लिए मान गई और वहीं सो गई। और रात के ठीक 12 बजे ऋषभ कॉल किया तो मैं वहां से उठी और दीक्षा के कमरे में आ गई, मैं मेन गेट पहले से ही जानबूझ के खुला छोड़ दी थी। फिर मैं गाउन उतारी और मैं ब्रा और पैंटी पहले से ही उतार दी थी अब मैं पूरी नंगी हो गई और लाइट ऑफ कर दी। तब तक कॉल कट गया लेकिन फिर तुरंत उसने कॉल किया तो मैं उठा ली तो उधर से वो बोला, जान सो गई थी क्या मैं गेट पे हूं जल्दी से गेट खोलो नही तो कोई देख लेगा तो मैं बोली सोई नही हूं आज मुझे बहुत चुदवाने का मन कर रहा है तो कपड़े उतार रही थी मैं पूरी नंगी लेटी हूं अपने बिस्तर पर। और लाइट ऑफ है। मॉम आज जग रही है इसलिए तुम सीधे मेरे रूम में आ जाना और मेरी चुदाई करना मैं कुछ नहीं बोलूंगी नही तो मॉम को पता चल जायेगा। अब तुम आ जाओ मैं मेन गेट पहले से ही खोल रखा हूं तुम हल्का पुश करो दरवाजा और सीधा आओ जल्दी। तो वह बोला ठीक है।

और फिर वो सिधा रूम में आ गया मैं तो चूत फैलाए उसका इंतजार कर रही थी। आज मुझे जवान लंड जो मिलने वाला था। वो सीधे मेरे रूम में आ गया मेरे बगल में बेड पे लेट गया और बोला, जान, तो मैं फुसफुसते हुए बोली, बोलो?

ऋषभ- यार लंड चूसो ना जल्दी से देखो पूरा खड़ा है। मैंने सोचा रूम में तो बिल्कुल अँधेरा है इसे पता नहीं चलेगा चूस लेती हूं। वह पहले ही अपना हाफ पैंट और निकर उतार दिया था फिर मैं उसका लंड चूसने लगी। उसका लंड अब बिल्कुल लोहे जैसा सख़्त हो गया। तो वह धीरे से बोला अब बर्दाश्त नहीं हो रहा अब तुम लेटो तो मैं झट से लेट गई।

फिर मैं फुसफुसाते हुए बोली यार अब देर मत करो और जल्दी से डालो कहीं मम्मी जग न जाए। तो ऋषभ मेरी पैरों को फैलाया और चूत चाटने लगा मुझे बहुत आनंद आया तो मैं सिसकारियां लेने लगी। और फिर वह बोला जान तुम्हारी चूत एक ही दिन में इतनी बड़ी कैसे हो गई। आज तुम्हारी चूत कुछ ज़्यादा बड़ी लग रही है।

मैं डर गई और बोली, कल रात तुम चोदे हो जानवर की तरह इसीलिए फूल गई है। ऋषभ बुर को इतना अच्छे से चाट रहा था कि मुझे मेरी चुदाई की रात याद आने लगी, मैं समझ गई थी की वह दीक्षा से पहले भी किसी को चोद चुका है। और अब मैं भी गांड उठा उठा कर उसके मुंह से अपनी बुर चटवाने लगी। फिर थोड़ी देर बाद ऋषभ मेरी टांग फैला कर मेरे चूत पर अपना 7 इंच का लंड सेट किया, तो मेरे से रहा नही गया तो मैं धीरे से बोली जानू कितना तड़पाओगे अब जल्दी घुसाओ।

और फिर वह जोर जोर से मुझे चोदने लगा। उसे अभी तक यही लग रहा था की वो दीक्षा को चोद रहा है। लेकिन मस्ती के मारे मुझसे रहा नही गया और मैं कहने लगी आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii आज मुझे रंडी बना ले अपनी .. और जोर से चोद.. आह फाड़ डाल मेरी चुत। आहहहहहहहहह मेरे राजा… चोदो जोर से……. आहहहहहहहहहहहहह पूरे ताकत से चोदो…. मेरी चुत को फाड़ डालो…..

आहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहह उफ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़ आहहहहहहहहहहहहह की आवाजें गूंज रही थी। मेरी चूत से फच फच की आवाज आ रही थी। आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह फक जानू फक हार्ड.. आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहह

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह….फक मि डार्लिंग फक मि। आहहहहहहहहहहहहहहहहह उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. इरर्राहहहहहहहहह.. चोदो मेरी जान चोदो…. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… .सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आह हहहहहहहहह… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह बेबी….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. फक मय पुसी किंग ओह माइ किंग ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहह आहहहहहहहहहहहहहहहहहः

ऋषभ पिछले आधे घंटे से मुझे चोद रहा था और मेरी चूत 4 बार पानी छोड़ चुका था लेकिन वह रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था। शायद वो चुदाई वाली दवा खा लिया था।

जब उसे उसका पैंट अंधेरे में नही मिला तो लाइट जला दिया और मुझे नंगा देखकर चीखा मौसी तुम और मैं मुस्कुरा दी

ऋषभ खूब तेजी से मुझे चोदे जा रहा था, चोदते चोदते उसने बोला- जान मेरा पानी निकलने वाला है, तो मैं बोली मेरी चूत में ही निकाल दो और फिर उसके लंड से गरम पानी मेरी चूत में भर गया और मैं उसे बाहों में दबोच ली। और वो मुझपर लेट गया। उसकी सांसे बहुत तेज चल रहा था। और फिर वो मेरी चूची को दबाने लगा और बोला जान तुम्हारी चूची तो एक ही दिन में बड़ी हो गई तो मैं धीरे से बोली तुम इतना दबा ही रहे हो की इसमें सूजन आ गया है। तो वह बोला जान तुम्हारी चूची तो तेरी मम्मी जितनी हो गई। उसका लंड अभी भी मेरे चूत में ही था और लगभग 10 मिनट हो गए थे तो मैं उससे बोली जानू अब फिर से चोदो ना तो वो बोला खड़ा तो होने दो। तो मैं बोली जल्दी खड़ा करो ना। तो वह लंड निकाला और मेरे मुंह में दे दिया। उसके लंड से मेरी चूत की खुशबू आ रही थी। फिर मैं उसका लंड चाटने चूसने लगी और जल्दी ही फिर से उसका लंड खड़ा हो गया। और फिर मैं बोली अब जल्दी से चोदो क्या पता मॉम को पता ना चल जाए। तो वह फिर से मुझे चोदने लगा और अगले एक घंटे तक मुझे चोदा अब मैं थक गई थी और मेरी चूत भी जलने लगी थी तो मैं बोली जानू जल्दी अपना पानी गिराओ न तो वह और जोर जोर से चोदने लगा और फिर मेरे चूत में फिर से झड़ गया।

तो मैं धीरे से बोली जानू अब अपने कपड़े पहन लो और चुप चाप धीरे से निकल जाओ नही तो मॉम को पता चल गया तो हम दोनो का खैर नहीं। तो वह बोला यार मुझे अभी और चोदना है मेरा मन अभी नही भरा है तो मैं बोली अब किसी और दिन मैं थक गई हूं। फिर वो मन मसोस कर अपने कपड़े ढूढने लगा लेकिन उसका हाफ पैंट नही मिल रहा था तो वह बोला यार लाइट तो जलाओ मेरा पैंट नही मिल रहा है तो मैं बोली लाइट ऑन करेंगे तो मॉम जाग जाएगी ऐसे ही ढूंढो तो वह कोशिश किया लेकिन नही मिला पूरे बिस्तर पर कहीं नहीं था उसका पैंट। तो वह उठा और लाइट जला दिया। और मुझे नंगे देखकर भौचक्का रह गया और बोला मौसी तुम?

तो मैं बोली साले सिर्फ अपनी बहन को ही चोदेगा क्या मेरी भी तो चूत में आग लगी थी। चल अब जब तुझे पता चल ही गया है तो ले एक बार फिर से चोद ले अभी तुम्हारा मन नहीं भरा है ना। तो वह बोला दीक्षा कहां है तो मैं बोली उसे मैं सुला दी हूं और आज दिन में भी तूने मुझसे ही बात किया था, अब आ और जल्दी से मेरी चूत चाट। और अब वो भी निडर हो गया और मेरी चूत फिर से चाटने लगा और एक और राउंड की चुदाई किया। तब तक 4 बज चुके थे और दीक्षा उठ सकती थी। इसलिए मैं बोला की सुन साले ये बात दीक्षा को पता नही चलना चाहिए और तुम उसे भी चोद मुझे कोई आपत्ति नहीं हैं, लेकिन मेरी भी चूत की आग बुझाते रहना। और अब तू जा निकल जल्दी से। फिर वह चला गया। और हम अब जब भी मौका मिलता है चुदाई करते हैं।

तो दोस्तों यह अनोखी चुदाई कैसी लगी आपको मुझे कमेंट करके बताना। और मिलते हैं किसी और स्टोरी में।

अब मुझे दीजिए इजाजत और ऐसी ही रस से भरी चूत चुदाई की अन्य कहानियो के लिए https://nightqueenstories.com के अन्य पेज पर जाएं। हम आपको पूरा यकीन दिलाते हैं आपकी पसंद की हर कहानियां लेकर आएंगे। और चुत औऱ लन्ड की गर्मी शांत करते रहेंगे।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें। मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “दोस्त के नाम अम्मी की चूत

हिंदी की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे Indian Antarvasna Sexy Hindi Seductive Stories
इंग्लिश की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे  Best Real English Hot Free Sex Stories

 

88% LikesVS
12% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *